आपल्या शहरातील ताज्या बातम्या आणि ई-पेपर मिळवा मोफत

डाउनलोड करा
  • Marathi News
  • Prasoon Joshi So Beautifully Drives Home In This Heart Breaking Poem

VIDEO: पेशावर हल्ला आणि प्रसून जोशी यांची HEART BREAKING कविता...

7 वर्षांपूर्वी
  • कॉपी लिंक
पेशावर- येथील आर्मी स्कूलवर मंगळवारी दहशतावादी हल्ला झाला. निरागस-निशस्त्र मुलांवर दहशतवाद्यांनी प्रत्येक क्लासमध्ये घुसून गोळीबार केला. या हल्‍ल्‍यात 132 शाळकरी मुलांची हत्‍या करण्‍यात आली. या हल्ल्‍याने जगाला हदरून सोडले. गोळीबाराचा आवाजानेमुळे जीवाच्या अकांताने धावत सुटलेल्या विद्यार्थ्यांवरही दहशतवाद्यांनी गोळ्या झाडल्या. जोपर्यंत मुले जमीनीवर कोसळत नाहीत, तोपर्यंत दहशतवादी मुलांवर गोळ्या झाडत होते. या हल्‍ल्‍याचा जगभरातून विरोध करण्‍यात आला. या हल्‍ल्‍यानंतर प्रसून जोशी यांनी कवितेमधून व्‍यक्‍त केलेल्‍या भावना तुमच्‍यापर्यंत पोहोचवत आहोत या व्हिडीओच्‍या माध्‍यमातून...
गोद में आने से कतराने लगे
जब मां की कोख से झांकती जिंदगी
बाहर आने से घबराने लगे
समझो कुछ गलत है।

जब तलवारें फूलों पर जोर आजमाने लगें
जब मासूम आंखों में खौफ नजर आने लगे
समझो कुछ गलत है।

जब ओस की बूंदों को हथेलियों पर नहीं
हथियारों की नोक पर तैरना हो
जब नन्हे नन्हे तलवों को
आग से गुजरना हो
समझो कुछ गलत है...।
जब किलकारियां सहम जाएं
जब तोतली बोलियां खामोश हो जाएं
समझो कुछ गलत है।
कुछ नहीं बहुत कुछ गलत है
क्योंकि जोर से बारिश होनी चाहिए थी
पूरी दुनिया में

हर जगह टपकने चाहिए थे आंसू
रोना चाहिए था ऊपर वाले को
आसमान से, फूटफूटकर।
शर्म से झुकनी चाहिए थी
इंसानी सभ्यता की गर्दनें
शोक नहीं, सोच का वक्त है
मातम नहीं, सवालों का वक्त है।
अगर इसके बाद भी
सर उठाकर खड़ा हो सकता है इनसान
समझो कुछ गलत है।
पुढील स्लाईडवर क्लिक करुन बघा व्हिडिओ....